Menu Close

Thyroid Ke Lakshan, Karan Aur Upchar- थायराइड के लक्षण, कारण और उपचार

थायराइड ग्रंथि तितली के आकार की एक ग्रंथि होती है जो गले के मध्य में स्थित होती है। यह थायराइड हार्मोन (Thyroid Hormone) को बनाती है जो हमारे शरीर के कई महत्वपूर्ण अंगों के सही ढंग से काम करने के लिए जरूरी है और हमारे शरीर के कई महत्पूर्ण अंगों को प्रभावित करती है। इस लेख में आप जानेंगे थायराइड के लक्षण, कारण और उपचार (Thyroid Ke Lakshan, Karan Aur Upchar)

थायराइड की समस्या के दो प्रकार हैं- Hypothyroidism और Hyperthyroidism

Hyperthyroidism जिसे ( Underactive Thyroid) भी कहते हैं जिसमें थायराइड ग्रंथि पर्याप्त मात्रा में थायराइड हार्मोन नहीं बना पाती। और Hypothyroidism जिसे ( Overactive Thyroid) भी कहते हैं जिसमें थायराइड ग्रंथि अधिक मात्रा में थायराइड हार्मोन बनाने लगती है।

Hypothyroidism के लक्षण हमें आरंभिक चरण में दिखाई नहीं देते हालांकि अगर इसका इलाज ना हो तो बाद में कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उत्पन्न होने लगती है।

नीचे कुछ ऐसी समस्याओं और लक्षणों के बारे में पढ़ें-

1. थकावट- थायराइड की समस्या होने पर थोड़े से ही काम करने पर अत्यधिक थकावट महसूस होने लगती है और आपको ऊर्जा की कमी महसूस होती है।

2. नींद की समस्या- थायराइड की समस्या में ठीक से नींद नहीं आती है। सही समय पर नींद ना आना, गहरी नींद ना आना, नींद आने में परेशानी होना यह सब थायराइड की बीमारी की वजह से होती है।

3. वजन में बदलाव होना- आपके वजन में बदलाव होना भी थायराइड की समस्या के संकेत हैं। थायराइड की वजह से शरीर के Metabolism में बदलाव आने लगता है जिससे वजन बढ़ने या घटने लगता है। Hypothyroidism में वजन बढ़ता है और Hyperthyroidism में वजन घटता है।

4. तनाव- बेवजह अत्यधिक तनाव होना या चिड़चिड़ापन होना भी थायराइड की बीमारी के लक्षण हैं।

5. बालों का झड़ना- अनियंत्रित थायराइड हार्मोन से बालों की समस्या को बढ़ाते हैं। बालों का झड़ना, ड्राई होना, पतला होना थायराइड की समस्या के कारण होते हैं।

6. Goiter- आपकी थायराइड ग्रंथि आपके गले के मध्य में स्थित होती है। कुछ मामलों में इस थायराइड ग्रंथि का आकार बड़ा हो जाता है और गले में सूजन हो जाती है। जिसे Goiter कहते हैं जिसके कारण आप की आवाज में बदलाव आना और सांस लेने में दिक्कत होना जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं।

7. पाचन संबंधी बीमारियां-थायराइड की समस्या के कारण पाचन संबंधी बीमारियां भी होती हैं। कब्ज होना, दस्त होना, जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं।

8. मासिक धर्म- मासिक धर्म संबंधित समस्याएं की एक मुख्य वजह अनियंत्रित थायराइड हार्मोन भी हैं जिसकी वजह से मासिक धर्म में कई बदलाव आते हैं। जैसे मासिक धर्म में देरी होना, मासिक धर्म का ना होना, मासिक धर्म का कम या ज्यादा होना आदि।

9. जोड़ों में दर्द- जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द की समस्या का उत्पन्न होना भी धारण हारमोंस की समस्या का एक लक्षण है।

10. बांझपन- अनियंत्रित हारमोंस के एक मुख्य लक्षण बांझपन भी है क्योंकि हमारा शरीर सही मात्रा में थायराइड हार्मोन नहीं बना पाता जिस कारण महिलाओं में बांझपन की समस्या उत्पन्न हो जाती है। और अनियंत्रित थायराइड हार्मोन की वजह से महिलाओं में गर्भपात की समस्या भी बढ़ जाती है इसीलिए जो महिलाएं गर्भ धारण करना चाहती हैं वह इसकी जांच और इलाज अवश्य करवाएं।

11. Cholesterol का बढ़ना- शरीर में Cholesterol की मात्रा का बढ़ जाना थायराइड की समस्या का लक्षण है।

12. आंख संबंधी समस्या- थायराइड की समस्या के कारण आंखों में भी कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती है जैसे आंखों का सूखापन, आंखों का फूलना, आंखों से पानी निकलना और दोहरी दृष्टि इत्यादि।

13. रक्तचाप संबंधी समस्या- Hypothyroidism या Hyperthyroidism की वजह से रक्तचाप संबंधित समस्याएं उत्पन्न हो जाती है जैसे उच्च रक्तचाप या निम्न रक्तचाप।

थायराइड के कारण

जब आपका शरीर आवश्यक मात्रा में थायराइड हारमोंस नहीं बना पाता है तो इसका आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ने लगता है। आपके शरीर के Metabolism पर असर पड़ता है जिस कारण आपके शरीर के कई महत्वपूर्ण अंग सही ढंग से काम नहीं कर पाते और आपके स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां उत्पन्न होने लगती है। थायराइड की समस्या के कई कारण हैं उनमें से कुछ मुख्य कारण नीचे दिए गए हैं-

* दवाइयां- कई सारी ऐसी दवाइयां हैं जो थायराइड की समस्या को बढ़ाती है इसीलिए कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

* Iodine की कमी- Iodine सही मात्रा में ना लेना भी थायराइड की समस्या का कारण है। कम मात्रा में आयोडीन लेना Hypothyroidism का कारण है और जिन्हें थायराइड की समस्या पहले से है अगर आयोडीन अधिक मात्रा में लेते हैं तो उनमें Hypothyroidism की स्थिति और ज्यादा खराब हो सकती है इसीलिए सही मात्रा में आयोडीन युक्त नमक खाएं।

* गर्भावस्था- कई महिलाओं में थायराइड की समस्या गर्भावस्था के दौरान उत्पन्न होती है। अगर इसका इलाज ना किया जाए तो इससे गर्भपात, समय से पहले बच्चे का जन्म लिया (Premature Birth) जैसी समस्याएं हो सकती हैं। थायराइड की समस्या गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए भी खतरनाक है इसीलिए गर्भावस्था में इसका इलाज तुरंत करें।

थायराइड का इलाज

थायराइड संबंधी समस्याओं से निदान के लिए कई प्रकार के जांच उपलब्ध हैं। थायराइड के लिए Synthetic Thyroid Hormones का उपयोग एक सरल सुरक्षित और प्रभावित इलाज है। आपके डॉक्टर आपकी समस्या के अनुसार आपको खुराक लेने की सलाह देंगे।

और पढ़ें…

https://www.sehatness.com/high-blood-pressure-in-hindi/

https://www.sehatness.com/pcos-in-hindi/

https://www.sehatness.com/benefits-of-aloe-vera-in-hindi/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *