Menu Close

Sugar Diabetes Ke Lakshan- शुगर डायबिटीज के लक्षण और कारण

शुगर (डायबिटीज) की बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति में इंसुलिन (Insulin) हॉर्मोन्स (Hormones) के सही ढंग से काम करने की क्षमता कम होती है, जिस कारण इंसुलिन खून में मौजूद ग्लूकोस का सही इस्तेमाल नहीं कर पाता। इसके कई कारण होते हैं और हर कारण के अलग-अलग लक्षण होते हैं। कई कारणों के लक्षणों का पता लगाना बहुत कठिन होता है। Type 1 डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्तियों का शरीर इंसुलिन हॉर्मोन्स बिल्कुल नहीं बना पाता और Type 2 डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्तियों के शरीर में बहुत कम मात्रा में इंसुलिन हॉर्मोन्स बनते हैं। कुछ महिलाओं गर्भावस्था के दौरान Gestational डायबिटीज से ग्रस्त हो जाती हैं। इस लेख में जानें Sugar Diabetes Ke Lakshan- शुगर डायबिटीज के लक्षण और कारण।

पहले नीचे कुछ शुगर (डायबिटीज) के कारणों के बारे में जानें-

Type 1 डायबिटीज के कारण-

Type 1 डायबिटीज के ठोस कारण अभी अज्ञात हैं, इसका मुख्य कारण है कि आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता, जो बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करती है। वह आपके शरीर में इंसुलिन बनाने वाली कोशिकाओं को ही नष्ट करने लगती है, जिससे आपके शरीर में कम इंसुलिन हारमोंस बनते हैं, जिस कारण आपके खून में शुगर की मात्रा बढ़ने लगती है।

Type 2- डायबिटीज के कारण-

Type 2- डायबिटीज में आपके शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन प्रतिरोधक हो जाती है और आपके शरीर में मौजूद Pancreas पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाती। जिस कारण शुगर की मात्रा आपके खून में बढ़ जाती है।

ऐसा माना जाता है कि इसका कारण Genetic और पर्यावरण संबंधी कारक हैं।

गर्भावस्था में मधुमेह के कारण-

गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाओं के शरीर में मौजूद Placenta गर्भावस्था को बनाए रखने के लिए अधिक हारमोंस बनाने लगता है, जिसकारण इन महिलाओं के शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन प्रतिरोधक हो जाती हैं, और शरीर में मौजूद ग्लूकोस कोशिकाओं में अवशोषित होने के बजाय, खून में जाने लगते हैं। जिसकारण खून में शुगर का स्तर बढ़ जाता है और महिलायें Gestational डायबिटीज से ग्रस्त हो जाती हैं।

डायबिटीज (शुगर) के लक्षण-

प्रारंभिक दौर में मधुमेह के लक्षण अनुभव नहीं होते हालांकि Type 1 डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्तियों में यह लक्षण जल्दी आ जाते हैं। यह लक्षण आपके खून में मौजूद शुगर के बढ़े हुए स्तर पर निर्भर करते हैं। Type 1 डायबिटीज के लक्षण Type 2 डायबिटीज के लक्षणों से पहले और जल्दी उत्पन्न हो जाते हैं। अगर आपको इन लक्षणों का अनुभव हो तो डॉक्टर से जल्द संपर्क करें। नीचे इन डायबिटीज के लक्षणों के बारे में पढ़ें-

1. बार-बार पेशाब आना- इसे Polyuria भी कहते हैं। बार बार पेशाब आना आपके खून में शुगर के बढ़े हुए स्तर का संकेत हैं। आपकी किडनी इस बड़े हुए स्तर को नियंत्रित नहीं रह पाती और इसे आपके मूत्र में निष्कासित कर देती है, जिस कारण आप को बार बार पेशाब जाना पड़ता है और इससे मूत्र प्रणाली में संक्रमण (Infections) होने का भी खतरा रहता है। अक्सर रात में बार बार पेशाब आना इसका लक्षण है।

2. ज्यादा प्यास लगना- खून में शुगर की मात्रा बढ़ जाने के कारण बार बार पेशाब आने की समस्या उत्पन्न हो जाती है जिससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसलिए ज्यादा प्यास लगती है।

3. भूख का बढ़ जाना- भूख लगना बढ़ जाना भी मधुमेह होने का संकेत है। आपके शरीर की कोशिकाएं आपके खून में मौजूद ग्लूकोस पर निर्भर करती है, लेकिन किन्ही कारणों से यह कोशिकाएं सही ढंग से ग्लूकोस को अवशोषित नहीं कर पाती, जिस कारण आपके शरीर को और ऊर्जा की जरूरत पड़ती है, इसीलिए आपको भूख ज्यादा लगने लगता है।

4. नसों में दर्द या सुन हो जाना- कभी-कभी मधुमेह की वजह से आपको नसों में दर्द या आपके हाथों उंगलियां और पैरों में सनसनाहट होना या सुन हो जाना जैसे लक्षणों का अनुभव होता है और इन्हें उत्पन्न होने में कई साल भी लग जाते हैं।

5. घाव का धीरे-धीरे भरना या ठीक होना- मधुमेह की वजह से आपके ब्लड vessels संकीर्ण हो जाते हैं। खून का संचार होना कम हो जाता है जिस कारण घाव तक संपूर्ण पोषक तत्व और ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाते, इसीलिए घाव धीरे-धीरे ही ठीक हो पाते हैं।

6. धुंधली दृष्टि- मधुमेह के कारण आंखों की दृष्टि में धुंधलापन आने लगता है, इसकी वजह है खून में शुगर के स्तर का बढ़ जाना, जो आंखों में मौजूद सुक्ष्म ब्लड vessels को प्रभावित करते हैं। जिस कारण आंखों की दृष्टि धुंधली होने लगती है। अगर आपको ऐसा अनुभव हो तो बिना देर कर डॉक्टर से संपर्क करें वर्ना आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

7. त्वचा में काले धब्बे होना- त्वचा में काले धब्बे होना Type 2 डायबिटीज के लक्षणों में से एक है। यह ज़्यादातर गले , हाथों , पैरों , कमर आदि में होते हैं।

8. वजन कम होना- Type 2 डायबिटीज की वजह से आपके शरीर के कोशिकाओं को पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोस नहीं मिल पाता है, जिस कारण आपके वजन में कमी आने लगती है। वजन का कम होना भी मधुमेह का एक लक्षण है।

बिना इलाज के यह लक्षण गंभीर रुप ले सकते हैं और यह आपके जीवन के लिए भी खतरनाक है।

अगर आपको इन लक्षणों का अनुभव हो तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें और इसके इलाज के बारे में जाने जिससे आपको इसे नियंत्रित करने में मदद मिले।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/diabetes-sugar-madhumeh-in-hindi

https://www.sehatness.com/sugar-ka-gharelu-ilaj-upchar

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *