Menu Close

PCOS in Hindi- पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (लक्षण, कारण और इलाज)

आजकल प्रजननीय महिलाओं में हार्मोन्स असंतुलित  के कारण पॉलीस्सिटिक ओव्री सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome)- PCOS होना बहुत ही आम बात हो गई है। जिन महिलाओं को PCOS है उनमें अनियमित मासिक धर्म की समस्या होती है। जिस कारण इन महिलाओं के अंडाशय नियमित रूप से अंडे निष्कासित नहीं कर पाते, जिससे इन्हें बच्चा पैदा करने में काफी मुश्किलें आती हैं। यह जरूरी नहीं है कि जिन महिलाओं को PCOS है उनके अंडाशय में ओवरी सिस्ट भी हो। इस लेख में आप जानेंगे PCOS in Hindi- लक्षण, कारण और इलाज के बारे में।

नीचे कुछ हारमोंस के बारे में बताया है जो PCOS के कारण प्रभावित होते हैं-

PCOS से प्रभावित महिलाओं के हार्मोन असंतुलित होते हैं। आपका शरीर बहुत सारे हार्मोन्स को बनाता है जो शरीर में अलग-अलग कार्यों के लिए होते हैं हार्मोन्स जो PCOS के कारण प्रभावित होते हैं-

Androgen- PCOS महिलाओं में Androgen Hormones (पुरुष हार्मोन) का स्तर बढ़ा हुआ होता है और मुहांसे भी होते हैं।

इंसुलिन (Insulin)- यह हार्मोन आपके शरीर के ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है। PCOS के कारण Insulin हार्मोन सही ढंग से आपके शरीर में काम नहीं कर पाता जिससे आपका ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है।

Progesterone- PCOS महिलाओं में यह हार्मोन सही मात्रा में नहीं बनते हैं जिनसे उनमें अनियमित मासिक धर्म, मासिक धर्म का न होना और मासिक धर्म में अत्यधिक खून बहना जैसी समस्याएं आ जाती हैं।

PCOS के लक्षण

PCOS के कई लक्षण हैं, लेकिन ये जरूरी नहीं कि सभी लक्षण आपको हों, इन लक्षणों को पहचानने में कभी-कभी कई साल भी लोग जाते हैं। PCOS के लक्षण मुख्यतः पहले मासिक धर्म के दौरान ही विकसित हो जाते है परंतु कभी-कभी ये लक्षण बाद मे भी पैदा होते हैं।

नीचे कुछ PCOS के कारण होने वाले लक्षणों के बारे में जाने-

1. अनचाहे बालों का होना- PCOS महिलाओं में अनचाहे जगहों में बाल उगने लगते हैं जैसे कि chin , स्तन , पेट आदि।

2. बालों का झड़ना- महिलाएं जिनमें PCOS हैं उनके बाल पतले हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं।

3. वजन की समस्या- PCOS मे महिलाओं का वजन बढ़ जाता है जिसे कम करना बहुत ही मुश्किल होता है।

4. मुंहासे और ऑयली त्वचा- हॉर्मोन्स परिवर्तन के कारण PCOS महिलाओं में मुहांसे और ऑयली त्वचा की समस्या होती है।

5. नींद की समस्या- महिलाएं जिनमें PCOS हैं उनमें नींद ना आने और हमेशा थकावट रहने की समस्या रहती है।

6. Infertility- PCOS महिलाओं को बच्चा पैदा करने में काफी दिक्कतें होती है PCOS महिलाओं में Infertility की समस्या के मुख्य कारणों में से एक है।

7. मासिक धर्म की समस्या- अनियमित मासिक धर्म , मासिक धर्म का न होना और अत्यधिक मासिक धर्म होना ये PCOS के मुख्य लक्षणों में से एक है।

8. Polycystic Ovaries- PCOS की वजह से महिलाओं के अंडाशय के आकार बढ़ जाते हैं और उनमें बहुत सारे अविकसित Follicles जमा हो जाते हैं जिस कारण आपके अंडाशय सही ढंग से काम नहीं कर पाते और नियमित रूप से उत्कृष्ट अंडे निष्कासित नहीं कर पाते जिससे Infertility की समस्या हो जाती है।

अगर आपको ऊपर बताए गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण हो तो अपने डॉक्टर से अवश्य बात करें कि आपके लिए सही योग्य उपचार क्या है।

PCOS के कारण

PCOS के सही कारण अभी तक अज्ञात हैं, कुछ कारण जिनसे PCOS की समस्या होती है नीचे दिए गए हैं।

अत्यधिक इंसुलिन – हमारे शरीर में मौजूद Pancreas, इंसुलिन हॉर्मोन्स को बनाता है जो कि हमारे शरीर के ब्लड शुगर को नियंत्रित रखता है। अगर आपके शरीर के कोशिकाएं किसी कारण से इंसुलिन प्रतिरोधक हो जाए तो यह ब्लड शुगर को नियंत्रित नहीं कर पाते जिससे आपके शरीर में ब्लड शुगर का स्तर बढ़ने लगता है। और आपका शरीर अधिक इंसुलिन हॉर्मोन्स (Insulin Hormones) बनाने लगता है जो कि महिलाओं में PCOS का कारण है।

अनुवांशिकता (Heredity)- कई शोध से यह पता लगता है कि कुछ ऐसे genes है जिनके कारण PCOS की समस्या उत्पन्न होती है।

अत्यधिक अंड्रोजन हॉर्मोन्स (Androgen Hormones)- कुछ महिलाओं के अंडाशय असामान्य रूप से अत्यधिक Androgen Hormones बनाने लगते हैं जिससे PCOS की समस्या हो जाती हैं।

PCOS के कारण होने वाली परेशानियां-

* बांझपन

* मधुमेह

* उच्च रक्तचाप

* गर्भपात की समस्या या बच्चे का समय से पहले जन्म होना

* Metabolic syndrome

* नींद संबंधित बीमारी

* तनाव

* गर्भाशय से और सामान्य रक्त स्त्राव

* गर्भाशय की परत का कैंसर

* मोटापा

PCOS के लिए शारीरिक परीक्षण एवं जांच

PCOS की पहचान के लिए कोई एक जांच नहीं है, आपके डॉक्टर आपके लक्षणों को जानकर, शारीरिक जांच करके और खून की जांच करके यह पता लगाते हैं कि आपको PCOS की समस्या है या नहीं। डॉक्टर आपका ब्लड प्रेशर और (BMI) -Body Mass Index की भी जांच करते हैं।

Pelvic जांच- डॉक्टर आपकी योनि, Cervix, गर्भाशय, Follopian Tubes, अंडाशय और Rectum में किसी भी प्रकार की और असमानता के लिए जांच करते हैं।

Pelvic Ultrasound (Sonogram)- ये आपके अंडाशय की जांच के लिए किया जाता है डॉक्टर आपके अंडाशय में सिस्ट और अंडाशय की परत की मोटाई की जांच करके यह पता लगाते हैं कि आपको PCOS है या नहीं, जिन महिलाओं में PCOS की समस्या होती है उनके अंडाशय के आकार डेढ़ से तीन गुना तक बढ़ जाते हैं।

PCOS का इलाज

PCOS के लिए सभी महिलाओं का एक जैसा इलाज नहीं होता है। इसका इलाज महिलाओं के लक्षणों पर निर्भर करता है। PCOS का इलाज लक्षणों को और अन्य स्वास्थ्य बीमारियां जो PCOS के कारण उत्पन्न होती हैं, कम करने के लिए किया जाता है। आपके डॉक्टर आपके लक्षणों के आधार पर ही आपको सही इलाज के बारे में बता सकते हैं।

स्वस्थ्य आहार- PCOS की समस्या को कम करने के लिए स्वस्थ भोजन खाना एक मुख्य उपायों में से एक है। PCOS के कारण आपका ब्लड शुगर स्तर बढ़ जाता है। इसीलिए आपको उन भोजनों को खाना चाहिए, जिनमें फाइबर की मात्रा ज्यादा हो ताकि आपके ब्लड शुगर स्तर को नियंत्रित रहने में मदद मिले।

वजन कम करें- PCOS का एक मुख्य कारण मोटा भी है जिन महिलाओं को वजन ज्यादा होता है उनमें PCOS की समस्या भी अधिक होती है इसीलिए आप अपने वजन को कम करके इसे ठीक कर सकती हैं और अपने मासिक धर्म और हॉर्मोन्स को सामान्य कर सकती हैं।

तनाव कम करें- PCOS के एक मुख्य कारण तनाव भी है इसीलिए आप अपने तनाव को कम करें और तनाव मुक्त रहें।

PCOS के इलाज में इस्तेमाल होने वाली कुछ दवाइयां-

* Metformin– इस दवाई का इस्तेमाल बड़े हुए इंसुलिन (Insulin) स्तर को कम करने के लिए किया जाता है यह दवाई Type 2 Diabetes (मधुमेह) के रोगियों को दिए जाने वाली मुख्य दवाई में से एक है।

* गर्भनिरोधक गोलियां- गर्भनिरोधक गोलियां PCOS के इलाज में बहुत ही उपयोगी हैं, लेकिन यह उन महिलाओं को दिए जाती है जो गर्भधारण ना करना चाहती हो, यह आपके मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करते हैं। गर्भनिरोधक गोलियां, PCOS की वजह से गर्भाशय की परत में होने वाले Endometrial cancer को भी कम करते हैं।

* Clomiphene- यह दवाई उन PCOS से ग्रस्त महिलाओं को दी जाती है जो गर्भ धारण करना चाहती हैं। Clomiphene से महिलाओं के अंडाशय उत्तेजित हो जाते हैं।

* Progestin- Progestin महिलाओं के मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करता है। इसका इस्तेमाल महिलाओं में होने वाली गर्भाशय के कैंसर को कम करने के लिए किया जाता है।

* Vitamin D- कई शोध से यह साबित हुआ है कि vitamin D की कमी से महिलाओं को गर्भधारण करने में दिक्कतें आती हैं। इसीलिए Vitamin D युक्त supplements खाएं और सुबह की धूप जरूर लें।

आपने जाना PCOS in Hindi- लक्षण, कारण और इलाज के बारे में। यह ध्यान रखें कि सभी महिलायें जो PCOS की समस्या से ग्रस्त हैं सबका एक जैसा इलाज नही किया जाता, ये उनके लक्षणों पे निर्भर करता है, इसलिए ये सलाह दी जाती है कि सही जांच एवं इलाज के लिए अपने डॉक्टर से अवश्य राय लें।

और पढ़ें…..

https://www.sehatness.com/ashwagandha-ke-fayde

https://www.sehatness.com/low-blood-pressure-in-hindi

https://www.sehatness.com/how-to-increase-weight-in-hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *