Menu Close

Low Blood Pressure in Hindi- कारण, लक्षण और उपाय

निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) क्या है ?

रक्तचाप जो ( 90/60) से कम हो उसे निम्न रक्तचाप कहते हैं। निम्न रक्तचाप को हाइपोटेंशन भी कहा जाता है। कुछ लोगों में रक्तचाप सामान्य से कम हो सकता है। निम्न रक्तचाप में कई समस्याएं हो सकती हैं इसलिए निम्न रक्तचाप होने पर डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। इस लेख में हम जानेंगे Low Blood Pressure in Hindi– कारण, लक्षण और उपाय के बारे में।

निम्न रक्तचाप के कारण-

कुछ लोगों में निम्न रक्तचाप (लो ब्लड प्रेशर) होने के कोई विशेष कारण नहीं होते, हालांकि कुछ स्वास्थ्य स्थितियां या दवाइयों की वजह से लो ब्लड प्रेशर हो सकता है।

लो ब्लड प्रेशर तब होता है जब हमारा शरीर किसी कारणों से रक्तचाप को एक स्वास्थ्य दायरे में ना रख पाए। यह कई कारणों से हो सकता है और किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। लो ब्लड प्रेशर तभी गंभीर है जब इसकी वजह से हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में खून के बहाव में लगातार कमी होती जाए।

नीचे कुछ प्रकार के ब्लड प्रेशर के बारे में बताया है जो किसी ना किसी उम्र के लोगों को प्रभावित करते हैं:

Neutrally Mediated Hypotension– यह तभी होता है जब ज्यादा समय तक खड़े रहने की वजह से ब्लड प्रेशर में अचानक कमी आ जाए। जी मचलना , चक्कर आना , बेहोशी छाना ये कुछ इसके लक्षण है। इस तरह के निम्न रक्तचाप से ज्यादा बच्चों को प्रभावित करते हैं।

Orthostatic Hypotention– यह तभी होता है जब आप बैठे या सोए हुए स्थिति से अचानक खड़े होते हैं जिससे आपका ब्लड प्रेशर में अचानक गिरावट आ जाती है। आप बेहोश हो सकते हैं या आपको चक्कर आ सकते हैं बूढ़े इससे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

Postprandial Hypotention– कभी कभी खाने की वजह से भी ब्लड प्रेशर में अधिक गिरावट आ सकती है इसे ही Postprandial Hypotention कहते हैं।

बहुत सारे और कारण हैं जो खून की मात्रा या शरीर में खून के बहाव कि दर को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करते हैं।

कुछ चिकित्सिये (Medical) कारण:

* हृदय रोग जैसे Heart attack , Heart failure , Low heart Rate भी निम्न रक्तचाप के कारण है।

* Hypoglycemia यह तब होता है जब आपका Blood Glucose Level बहुत कम हो जाए।

* Nervous System Disorder यह हमारे दिमाग और हृदय की धड़कने गति के बीच के संचार इसमें प्रभावित होते हैं।

* Dehydration तब होता है जब हमारे शरीर में पानी की कमी हो जाए Dehydration के कारण है उल्टी , बुखार , दस्त और अत्यधिक व्यायाम।

निम्न रक्तचाप होने के अन्य कारण:

गर्भावस्था- गर्भवती महिला को Circulatory System (परिसंचारी प्रणाली) में बदलाव की वजह से गर्भावस्था में गर्भवती महिला को निम्न रक्तचाप होने की संभावना रहती है।

दवाइयां- कुछ दवाइयों के सेवन से भी निम्न रक्तचाप हो सकता है।

पोषण की कमी (Nutritional Deficiencies)– सही पोषण युक्त भोजन ना खाने से ज्यादा देर तक सोना से भी निम्न रक्तचाप का कारण है।

संक्रमण- कुछ संक्रमण (infections) की वजह से भी निम्न रक्तचाप होता है।

एलर्जी (Allergy)– अगर आपको किसी चीज की वजह से एलर्जी है तो भी आपको निम्न रक्तचाप हो सकता है।

BP की दवाइयों का अत्यधिक इस्तेमाल की वजह से भी निम्न रक्तचाप होता है।

Diabetes– मधुमेह से गुप्त लोगों में निम्न रक्तचाप होना आम बात है।

चोट लगने या किसी अन्य कारण से अत्यधिक खून निकलना भी निम्न रक्तचाप का कारण है।

थायराइड प्रॉब्लम (Thyroid Problem)– जिन लोगों को थायराइड की समस्या है उनको निम्न रक्तचाप हो सकता है।

निम्न रक्तचाप के लक्षण

निम्न रक्तचाप के लक्षण हमेशा दिखाई नहीं देते , कुछ लोगों में निम्न रक्तचाप के कोई लक्षण नहीं होते ,इन लोगों में निम्न रक्तचाप की समस्या कोई ज्यादा चिंताजनक नहीं होती ,हालांकि कभी-कभी लोग निम्न रक्तचाप के लक्षण अनुभव करते हैं।

नीचे कुछ निम्न रक्तचाप के के बारे में उल्लेख है जैसे-

अस्पष्ट दृष्टि

भर्म

चक्कर आना

बेहोशी

तेज गति से सांस लेना

हृदय की धड़कन का बढ़ना

ज्यादा नींद आना

कमजोरी लगना

थकान

एकाग्रता की कमी

निम्न रक्तचाप में लोगों को एक ही या उससे ज्यादा लक्षणों का अनुभव हो सकता है अगर आपको यह लक्षण महसूस हों तो शीघ्र ही आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए ।

निम्न रक्तचाप के घरेलू उपाय:

अधिकतम लोग जिनको निम्न रक्तचाप की समस्या है किसी दवाइ या उपचार की जरूरत नहीं पड़ती , हालांकि बहुत सारे प्राकृतिक उपाय और जीवन शैली (Life style) बदलाव करके ठीक कर सकते हैं जो निम्न है-

1. थोड़ा अधिक नमक खाएं- नमक में सोडियम होता है। जिन लोगों को निम्न रक्तचाप होता है उन्हें सोडियम की मात्रा अधिक लेनी चाहिए ताकि उनका निम्न रक्तचाप बढ़ सके।

2. शराब का सेवन ना करें- जिन्हें निम्न रक्तचाप हैं उन्हें शराब नहीं पीना चाहिए।

3. धूम्रपान ना करें- धूम्रपान हमारे शरीर के लिए ख़तरनाक है और ये लो ब्लड प्रेशर को भी बढ़ाता है इसलिए धूम्रपान न करें।

4. कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लें- बहुत सारे ऐसी दवाइयां हैं जिनसे निम्न रक्तचाप हो सकता है इसलिए डॉक्टर से सलाह लेकर ही कोई भी दवा खानी चाहिए , अगर आपको दवा लेने के बाद निम्न रक्तचाप के लक्षण महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

5. पानी- कम पानी पीने से आपको Dehydration हो सकता है और आपके शरीर में पानी की कमी हो सकती है। जिससे आपको निम्न रक्तचाप हो सकता है इसलिए पर्याप्त पानी पीये।

6. थोड़ा थोड़ा करके भोजन खाएं- एक साथ ज्यादा भारी भोजन ना खाएं , क्योंकि इससे निम्न रक्तचाप की समस्या हो सकती है इसीलिए थोड़ा थोड़ा करके भोजन खाना चाहिए।

7. अचानक अपनी मुद्रा ना बदलें- अचानक उठने और बैठने से बचें क्योंकि इससे आपका हृदय पूरी तरह से खून को आपके शरीर में प्रवाहित नहीं कर पाता है। जिससे आपको निम्न रक्तचाप हो सकता है और आपको चक्कर आ सकता है या आप बेहोश हो सकते है। यह ज्यादातर बूढ़े लोगों में होता है।

ऊपर बताए गए Low Blood Pressure in Hindi- कारण, लक्षण और उपायों की मदद से निम्न रक्तचाप से सकते हैं यह महत्वपूर्ण है कि लोग निम्न रक्तचाप के लक्षणों के बारे में जरूर जाने।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/high-blood-pressure-in-hindi

https://www.sehatness.com/ashwagandha-ke-fayde

https://www.sehatness.com/pregnancy-me-kya-nahi-khana-chahiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *