Menu Close

Loose Motion Treatment In Hindi- दस्त (लूस मोशन) का इलाज

Loose Motion Treatment in HIndi

दस्त / लूस मोशन, (डायरिया) कोई बीमारी नहीं है बल्कि एक लक्षण है। एक दिन में तीन या उससे ज्यादा बार पतला, जलीय मल आना दस्त के लक्षण हैं। दस्त के लक्षण कुछ दिनों तक रह सकते हैं और ज्यादातर गंभीर नहीं होते हैं। दस्त से सभी लोग प्रभावित होते हैं। दस्त से डिहाइड्रेशन (Dehydration) की समस्या उत्पन्न हो जाती है और शरीर में पानी की कमी हो जाती है। जीर्ण (chronic) दस्त चार सप्ताह से ज्यादा तक भी रह सकते हैं। छोटे बच्चों को दस्त होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इस लेख में जानें दस्त (लूस मोशन) के कारण, बचाव और इलाज के बारे में- Loose Motion Treatment In Hindi.

दस्त (लूस मोशन) के कारण:

दस्त (लूस मोशन) होने के कई कारण हैं, जो निम्न हैं-

* बैक्टीरिया और वायरस संक्रमण जैसे साल्मोनेला (Salmonella) या रोटावायरस (Rotavirus) दस्त के सामान्य कारण है।

* कई प्रतिजैविक या एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) और उच्च रक्तचाप की दवाइयां भी दस्त की समस्या को उत्पन्न करती है।

* कुछ पेट संबंधी बीमारियां भी दस्त का कारण है।

* रेडिएशन (Radiation) के कारण भी दस्त होते हैं।

* खाना पूरी तरह से ना पचना भी दस्त का कारण है।

* फूड इनफेक्शन फूड प्वाइजन जो बाहर खाने से होता है ये भी दस्त के कारण हैं।

दस्त (लूस मोशन) के लक्षण:

दस्त (लूस मोशन) में अनुभव होने वाले लक्षण निम्न हैं-

* पतला, जलीय मल होना

* पेट दर्द

* पेट में मरोड़

* बुखार

* मल में खून

* सूजन

* जी मचलना

* बार-बार मल आना

दस्त में की जाने वाली जांच:

डॉक्टर अपनी शारीरिक जांच के साथ-साथ दस्त के कारणो को जानने के लिए अन्य जांच भी कर सकते हैं जो है-

खून की जांच- दस्त के कारण जानने के लिए खून की जांच।

मल की जांच- बैक्टीरिया या पैरासाइट को सुनिश्चित करने के लिए मल की जांच।

दस्त से बचाव:

* खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह धोयें।

* अगर पानी उपलब्ध नहीं हो तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।

* स्ट्रीट फ़ूड (Street food) ना खाएं।

* भोजन को अच्छी तरह पका कर खाएं, खासकर माँस को।

* सब्जियों को अच्छी तरह धोकर पकाएं।

* अस्वास्थ्यकर (Unhygiene) भोजन ना खाएं।

दस्त (लूस मोशन) का इलाज:

हालांकि दस्त (लूस मोशन) अपने आप ही ठीक हो जाता है इसके लिए कोई खास इलाज की जरूरत नहीं पड़ती, लेकिन कभी-कभी दस्त ज्यादा दिनों तक हो सकता है और गंभीर रूप भी ले सकता है, इसीलिए इसे बढ़ने से पहले ही ठीक करना आवश्यक है। दस्त के इलाज उसके लक्षण, कारण और गंभीरता पर निर्भर करते हैं। दस्त के इलाज निम्नलिखित हैं-

1. डिहाइड्रेशन- दस्त के दौरान शरीर से काफी पानी निकल जाता है और शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे डिहाइड्रेशन हो जाता है। यह स्थिति गंभीर भी हो सकती है इसीलिए दस्त के दौरान खूब पानी अन्य पेय पदार्थ पीये, इससे दस्त जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है।

2. एंटीडाएरीअल (Anti-diarrheal) दवाइयां- बाजार में उपलब्ध एंटीडाएरीअल दवाइयां दस्त के इलाज में दी जाती है।

3. एंटीबायोटिक्स- बैक्टीरिया की वजह से होने वाले दस्त में एंटीबायोटिक्स द्वारा इलाज किया जाता है।

4. आहार- स्वास्थ्य आहार खाएं, ज्यादा तली हुए भोजन ना खाएं। ज्यादा फाइबर युक्त भोजन जैसे केले, चावल, ओट्स खाएं, ये दस्त को जल्दी ठीक होने में मदद करते हैं।

5. प्रोबायोटिक्स (Probiotics)- प्रोबायोटिक्स / दही अच्छे बैक्टीरिया के बढ़िया स्त्रोत हैं, जो पाचन तंत्र को ठीक रखने में मदद करते हैं। यह अच्छे बैक्टीरिया पाचन तंत्र को सही से काम करने में सहायता करते हैं। यह बैक्टीरिया हमारे पाचन तंत्र को संक्रमण से बचाते हैं। प्रोबायोटिक्स पाचन तंत्र को ठीक करके दस्त से राहत दिलाने में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स कैप्सूल (Capsules), टैबलेट (Tablet), पाउडर और तरल रूप में मौजूद हैं।

6. अदरक- अदरक का इस्तेमाल सालों से कई प्रकार के पेट संबंधी बीमारियों के घरेलू इलाज में किया जा रहा है। अदरक पेट की समस्या और दस्त के इलाज के लिए भी उपयोगी है। आप अदरक वाली चाय पी सकते हैं।

7. शहद- शहद भी दस्त को ठीक करने में काफी मददगार है। हल्के गर्म पानी में चार चम्मच शहद मिलाकर पिए।

8. सादे चावल- दस्त में सादे चावल खाना चाहिए, ये दस्त को नियंत्रण में रखने में काफी उपयोगी है।

9. एलोवेरा जूस- पाचन प्रणाली को शांत करने के लिए एलोवेरा जूस बहुत ही उपयोगी है। एलोवेरा जूस दस्त को ठीक करने में भी मददगार है।

10. अधिक फाइबर खाएं- फाइबर पेट से टोक्सिन (Toxin)और अन्य बेकार पदार्थों को निष्कासित करने में मदद करता है ओर यह दस्त के लक्षणों को भी कम करने में मदद करता है।

11. मेथी के बीज- मेथी के बीज भी दस्त के लक्षणों को कम करने में मददगार हैं, लेकिन यह सिर्फ बड़ों के लिए है बच्चों के लिए नहीं। मेथी के बीजों को पानी में उबाल लें, फिर उस पानी को ठंडा कर कर छान लें और पीये।

12. नींबू पानी- नींबू पानी भी दस्त के इलाज में बहुत लाभकारी है।

13. एलेक्ट्रोलिटिक ड्रिंक्स (Electrolytic Drinks)- एलेक्ट्रोलिटिक ड्रिंक्स जैसे ORS (Oral Rehydration Solution) दस्त और डिहाइड्रेशन को ठीक करने में मददगार है।

14. विटामिन A खाएं- विटामिन A की सभी दोस्त को बढ़ाने का एक कारण भी है इसलिए विटामिन A युक्त भोजन या सप्लीमेंट खाएं जैसे गाजर, पालक, स्वीट पोटैटोज आदि विटामिन A दोस्त के लक्षणों को कम करने में सहायक है।

दस्त (लूस मोशन) में न खाये जाने वाले भोजन:

अगर आप दस्त की समस्या से ग्रस्त हैं तो निम्न भोजन से दूर रहें-

1. दूध उत्पाद

2. तले हुए भोजन

3. ज्यादा मसालेदार भोजन

4. कच्ची सब्जियां

5. citrus फल

6. कैफीन (Caffeine)

7. प्रोसेस्ड फुड (Processed food)

8. शराब

9. आर्टिफिशियल स्वीटनर्स (Artificial Sweeteners)

10. माँस, मछली

ऊपर बताए गए घरेलू उपाय और इलाजों की मदद से दस्त को ठीक किया जा सकता है। दस्त के दौरान ऊपर बताए गए खाद्य पदार्थों से दूर रहें, क्योंकि यह स्थिति और खराब कर सकते हैं। अगर दस्त ठीक ना हो रहा हो, तो बिना देर किये डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/pet-kam-karne-ke-gharelu-upay/

https://www.sehatness.com/kabj-ka-ilaj-constipation-treatment-in-hindi

https://www.sehatness.com/how-to-stop-snoring-in-hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *