Menu Close

किडनी स्टोन के लक्षण और इलाज- Kidney Stones Lakshan-Ilaj

किडनी की पथरी क्या है?

मूत्र में मौजूद नमक व अन्य खनिज पदार्थों के कारण किडनी में पथरी बनती है। किडनी की पथरी मूत्र के सही तरह से प्रवाह में अवरोध और संक्रमण पैदा करती है, जिससे किडनी खराब भी हो सकती है। किडनी की पथरी अलग-अलग आकार की होती है। किडनी की पथरी के एक बार होने के बाद दोबारा होने का खतरा भी ज्यादा होता है। ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों को पहले पथरी हो चुकी है उनमें दुबारा पथरी होने की संभावना 30% से 50% तक होती है। इस लेख में जानें किडनी स्टोन के लक्षण और इलाज- Kidney Stones Lakshan-Ilaj.

किडनी के पथरी होने के लक्षण:

ज्यादातर किडनी में पथरी के लक्षण अनुभव नहीं होते, जब तक कि ये पथरी मूत्र को गुर्दे से मूत्राशय तक ले जाने वाली नली तक ना पहुंच जाए। कई लोगों को गुर्दे में पथरी के कोई भी लक्षण अनुभव नहीं होते हालांकि ऐसा हो सकता है कि कुछ लोगों को लक्षणों का अनुभव हो। नीचे किडनी में पथरी होने के लक्षण जानें-

मूत्र से गंध आना
मूत्र में खून आना
बार बार पेशाब आना
बुखार
उल्टी
मतली
पेट में दर्द रहना
पेशाब करते समय जलन होना

किडनी में पथरी होने के कारण:

किडनी में पथरी मूत्र में मौजूद नमक व अन्य खनिजों के कारण होते हैं। कुछ लोग जिनमें Calcium, Oxalate, Cystine और Uric acid की मात्रा अधिक होती है, उनमें किडनी में पथरी होने की संभावना ज्यादा होती है। हालांकि किडनी में पथरी होने के ठोस कारण अभी अज्ञात हैं, लेकिन कई और ऐसे कारण हैं जिनसे किडनी में पथरी होते हैं।

किडनी में पथरी होने की जांच:

आप के लक्षणों को जानने के बाद डॉक्टर किडनी में पथरी होने की संभावना को सुनिश्चित करने के लिए कुछ जांच करते हैं जो निम्न हैं-

Ultrasound
CT Scans
X- Rays

किन लोगों को किडनी में पथरी होने की संभावना ज्यादा होती है:

कुछ लोगों को किडनी में पथरी होने का खतरा अन्य लोगों के मुकाबले ज्यादा होता है जो निम्न हैं-

जो लोग पर्याप्त पानी नहीं पीते ( आठ गिलास प्रतिदिन )
वे लोग जिनके परिवार में किसी सदस्य को पथरी की समस्या हो चुकी है।
वे लोग जो निष्क्रिय जीवनशैली जीते हैं।
वे लोग जो मोटापे से ग्रस्त हैं।
वे लोग जिन्हें मूत्राशय में संक्रमण की समस्या बार-बार हो।
वे लोग जो अधिक नमक खाते हैं।
वे लोग जो अधिक प्रोटीन और कम फाइबर वाले भोजन खाते हैं।
वे लोग जो अत्यधिक विटामिन सी और कैल्शियम सप्लीमेंट खाते हैं।

किडनी के पथरी का इलाज:

कुछ किडनी के पथरी, बिना सर्जरी के ठीक किए जा सकते हैं। 90% किडनी के पथरी अपने आप ही 3 से 6 हफ्ते में मूत्राशय से निकल जाते हैं, यह पथरी आकार में बहुत छोटे होते हैं और इन्हें इलाज की जरूरत भी नहीं पड़ती। हालांकि कुछ पथरी आकार में बड़े होते हैं जो काफी दर्द देते हैं इनके लिए इलाज की जरूरत होती है। नीचे किडनी के पथरी के इलाज के बारे में जानें-

Medication- किडनी के पथरी को गलाने के लिए डॉक्टर दवाइयों का प्रयोग करते हैं जिसमें दर्द निवारक दवाइयां, संक्रमण को ठीक करने के लिए anti-biotic दवाइयां, किडनी में पथरी को ठीक करने के लिए दवाइयां शामिल हैं।

Surgery- अगर दवाइयों के माध्यम से किडनी की पथरी ठीक ना हो तो डॉक्टर Surgery के माध्यम से किडनी की पथरी का इलाज करते हैं।

किडनी के पथरी से बचाव:

कुछ ऐसे उपाय हैं जो किडनी में पथरी होने के खतरे को कम कर सकते हैं जो निम्न हैं-

रोजाना पर्याप्त पानी पिए, Dehydration से बचें। इससे पथरी होने की संभावना बहुत घट जाती है।
ज्यादा कॉफी और चाय नहीं पिए।
फलों का जूस पिए।
नमक सही मात्रा में खाएं।
अधिक कैल्शियम और प्रोटीन वाले भोजन ना खाएं, सही मात्रा में खाएं।
अधिक फाइबर वाले भोजन खाएं।
शराब का सेवन ना करें।
High-Fructose युक्त पेय पदार्थ ना पिए, इससे पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है।
अपने वजन को संतुलित रखें। अधिक वजन है तो कम करें।

ऊपर दिए गए उपायों को अपनाकर आप किडनी के पथरी से बच सकते हैं, अगर आपको ऊपर बताए गए लक्षणों का अनुभव हो तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर ही आपकी सही जांच करके यह सुनिश्चित करेंगे कि आपको किडनी में पथरी है या नहीं और उसके अनुसार आपको इलाज के बारे में बताएंगे।

और पढ़ें:

Kabj-Constipation Ka Ilaj-Treatment

Cancer Ke Lakshan

Sugar Diabetes ke Lakshan

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *