Menu Close

पुत्र प्राप्ति के उपाय और तरीके- How to conceive a baby boy in Hindi

जब हम पुत्र प्राप्ति के उपाय और तरीके के बारे में जानना चाहते हैं तो हम वे सारे तरीकों के बारे में जानना चाहते हैं जो कि पुत्र पैदा करने में सहायक हों। इस लेख में आप जानेंगे पुत्र प्राप्ति के उपाय और तरीके (How to conceive a baby boy in Hindi)

हर गर्भधारण में लड़का पैदा होने की संभावना 50% और लड़की पैदा होने की संभावना 50% होती है। जब पुरुष शुक्राणु ( XY Chromosomes) अंडे को फर्टिलाइज करता है तो पुत्र पैदा होता है और जब मादा शुक्राणुओं (XX Chromosomes) अंडे को फर्टिलाइज करता है तो लड़की पैदा होती है इस तरह पुरुष के शुक्राणुओं ही बच्चे का लिंग निर्धारित करता है।

औसतन हर महीने गर्भधारण करने की संभावना केवल 25% होती है। अगर आप लड़का पैदा करने के लिए केवल एक निश्चित समय पर संभोग करते हैं तो आप अपने गर्भधारण के मौकों को कम कर रहे हैं।

पुत्र पैदा होने की संभावनाओं को बढ़ाने के कुछ तरीके-

1. शटल विधि

2. अपना ओवुलेशन दिन जानना

3. सेक्स पोजीशंस

4. आहार

शटल विधि- बेस्ट सेलिंग बुक (How to choose sex of your baby) के लेखक डॉक्टर ल्न्डरम शटल का मानना है कि नर और मादा शुक्राणु में कुछ प्राकृतिक फर्क है उन्होंने नर शुक्राणु को कमजोर छोटे लेकिन मादा शुक्राणु से तेज पाया उन्होंने यह भी पाया कि मादा शुक्राणु मजबूत है इसलिए वे एक महिला के शरीर के अंदर लंबी अवधि तक जीवित रह सकते हैं लेकिन नर शुक्राणु हल्का और तेज होने से महिला शुक्राणु की तुलना में अंडे तक तेजी से पहुंच सकते हैं।

इसलिए शटल विधि के अनुसार कुछ चीजों पर विचार करने की आवश्यकता है यदि आप एक लड़का चाहते हैं जिनमें निम्न शामिल हैं-

समय- क्योंकि नर शुक्राणु तेज होता है और बहुत जल्दी मर जाता है इसलिए ओवुलेशन के समय के करीब संभोग करने से लड़का होने की संभावना बढ़ जाती है। लड़का पैदा होने के लिए आपको ओवुलेशन से 24 घंटे पहले और 12 घंटे बाद तक संभोग करना चाहिए । आप अपने मासिक धर्म चक्र को चार्ट करके या ओवुलेशन किट का उपयोग करके अपने ओवुलेशन के दिन को जान सकते हैं ।ओवुलेशन किट
आपके लुटेनाइजिंग हॉरमोन (LH) के स्तर में वृद्धि का पता लगाकर काम करते हैं। (LH) के स्तर ओवुलेशन से लगभग 12 से 48 घंटे पहले बढ़ते हैं इसलिए संभोग करने का योग्य समय (LH) वृद्धि के लगभग 12 घंटे बाद होता है।

सेक्स पोजीशंस- डॉक्टर शटल का मानना था कि नर शुक्राणु को माता शुक्राणु से पहले अंडे तक पहुंचने के लिए सेक्स पोजीशंस बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि कुछ सेक्स पोजीशन से पुरुष शुक्राणु महिला के योनि की गहराई तक पहुंचते हैं जो लड़का पैदा करने में मददगार होते हैं।

महिला ऑर्गेज्म- पुत्र पैदा होने में महिला ऑर्गेज्म एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो योनि PH को प्रभावित कर सकता है। अगर महिला उत्तेजित होती है तो या योनि में एक क्षारीय (Alkaline) वातावरण बनता है जो नर शुक्राणु को जीवित रहने में मदद करता है। पुत्र होने की संभावना को बढ़ाने के लिए महिला को संभोग के दौरान अपने साथी से पहले और ऑर्गेज्म उत्तेजना प्राप्त करनी चाहिए।

अपना ओवुलेशन दिन पता लगाना- अपना ओवुलेशन दिन पता लगाएं और ओवुलेशन के और 1 दिन बाद तक संभोग करें। ओवुलेशन के समय आपका सर्वाइकल म्यूकस गीला और चिकना हो जाता है और इस समय संभोग करने से लड़का पैदा होने की संभावना बढ़ जाती है। आपको ओवुलेशन से पहले संभोग करने से बचना चाहिए।

अपनी ओवुलेशन दिन को जानने के कुछ तरीके-

सर्वाइकल म्यूकस की जांच करें- आमतौर पर सर्वाइकल म्यूकस आपके सामान्य दिनों में सूखा रहता है हालांकि ओवुलेशन के दौरान सर्वाइकल म्यूकस गीला और चिकना हो जाता है और यह आपको अपनी ओवुलेशन के दिन को जाने में मदद करता है।

ओवुलेशन किट- ओवुलेशन किट आपकी लुटेनाइजिंग हॉरमोन (LH) के स्तर में वृद्धि का पता लगाकर काम करता है (LH) के स्तर ओवुलेशन के 12-48 घंटे पहले बढ़ जाते हैं इसलिए संभोग करने का सबसे अच्छा समय (LH) वृद्धि के लगभग 12 घंटे बाद होता है।

अपने मासिक धर्म चक्र को चार्ट करना- दो महीने तक अपने मासिक चक्र को चार्ट करके आप अपने ओवुलेशन के दिन की भविष्यवाणी कर सकती हैं। आप ऑनलाइन ओवुलेशन कैलकुलेटर का भी उपयोग कर सकते हैं।

बेसल बॉडी तापमान- ओवुलेशन के बाद हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण एक महिला का बेसल बॉडी तापमान 0.4 से 1.0 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है। शरीर के तापमान में यह वृद्धि आमतौर पर किसी महिला के नोटिस के लिए बहुत छोटी होती है लेकिन बेस्ट बॉडी थर्मामीटर द्वारा इसका पता लगाया जा सकता है।

संभोग की स्थिति- सेक्स की स्थिति भी बच्चे की लिंग का निर्धारण करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है डॉगी स्टाइल और मिशनरी स्टाइल से योनि में गहराई तक प्रवेश कर सकते हैं और पुरुष शुक्राणुओं को स्खलन के बाद गर्भाशय के करीब डाल सकते हैं। नर शुक्राणु मादा शुक्राणु से तेज होते हैं लेकिन यह मादा शुक्राणु से ज्यादा देर तक जीवित नहीं रहते हैं इसलिए गहरे प्रवेश के सेक्स पोज़िशन्स पुरुष शुक्राणु को अंडे तक पहुंचने के लिए लाभ प्रदान करते हैं जिसके परिणाम स्वरूप पुत्र पैदा होता है।

खाद्य पदार्थ जो लड़का पैदा करने में मदद करते हैं-

चूंकि शुक्राणु अधिक घंटों तक जीवित रहने के लिए अम्लीय से ज्यादा छारीय वातावरण पसंद करते हैं इसलिए आपको वह भोजन खाना चाहिए जो योनि को अधिक क्षारीय बनाने में मदद कर सकता है। आपकी योनि का जितना अधिक क्षारीय वातावरण होगा उतना ही अधिक आपके गर्भ में लड़का होने की संभावना होगी।

कुछ सुझाए गए प्राकृतिक खाद्य पदार्थ निम्न हैं:

अधिक क्षारीय खाद्य पदार्थ खाएं- नींबू, मसूर, आवोकाडो, नट्स, बादाम, गाजर, नारंगी का रस, लाल मूली, ताजा लाल बीट, मटर यह कुछ क्षारीय खाद्य पदार्थ हैं। उच्च कैलोरी आहार खाएं जो अधिक ऊर्जा प्रदान करते हैं। उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ पुत्र होने कि संभावना को बढ़ाते हैं कुछ उच्च कैलोरी भोजन हैं केला, मछली, सब्जियां और अनाज।

अधिक सोडियम और पोटेशियम खाएं- सोडियम और पोटैशियम समृद्ध खाद्य पदार्थ खाएं जैसे केला और कैल्शियम और मैग्नीशियम के खाद्य पदार्थों को कम करें जैसे डेयरी उत्पाद।

फोलिक एसिड लें- फोलिक एसिड वे गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए जाना जाता है और हर गर्भवती महिलाएं जो स्वस्थ बच्चों को जन्म देना चाहती हैं वे अपने आहार में नट्स, सेम, मटर, अंडे, समुद्री भोजन, ताजा फल, अनाज, शतावरी और पालक जैसे प्राकृतिक खाद्य पदार्थों को जोड़कर फोलिक एसिड प्राप्त कर सकते हैं।

प्री इंप्लांटेशन जेनेटिक टेस्टिंग

कुछ फर्टिलिटी डॉक्टर आईवीएफ प्रक्रिया के बाद इस परीक्षण को करते हैं जो की भ्रूण के क्रोमोजोम्स के जरिए सेक्स का पता लगाते हैं और बाद में उस भ्रूण को महिला के गर्भाशय में इम्प्लान्ट करते हैं मगर भारत में ये परीक्षण नही किया जाता।

आप उपयुक्त तरीकों और प्रक्रियाओं द्वारा लड़का पैदा करने की संभावना को बढ़ा सकते हैं साथ ही ध्यान रखें कि गर्भवती होने का सबसे अच्छा समय तब होता है जब आपका शरीर पूरी तरह से संतुलित होता है और जब आपके हॉर्मोनल स्तर गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए तैयार होते हैं और आप स्वस्थ स्थिति में होते हैं।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/best-sex-positions-to-get-pregnant-fast-in-hindi

https://www.sehatness.com/pregnancy-me-kya-nahi-khana-chahiye

https://www.sehatness.com/how-to-stop-snoring-in-hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *