Menu Close

High Blood Pressure in Hindi- कारण, लक्षण और उपाय

उच्च रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर) क्या है ?

ब्लड प्रेशर जो कि (180/100 mmhg) से ज्यादा हो तो उसे हाई ब्लडप्रेशर कहते हैं। यह तब होता है जब हमारे धमियों (Arteries) में खून उच्च प्रेशर में प्रवाहित होने लगती है, अगर यह प्रेशर ज्यादा समय तक बने रहता है तो हमारे शरीर पर बहुत बुरा असर डाल सकता है यहां तक की Heart Attack या Kidney Fail होने तक का खतरा बढ़ जाता है। इस लेख मैं हम जानेंगे High Blood Pressure in Hindi के बारे में।

हाई ब्लडप्रेशर के कारण:   

कभी-कभी हाई ब्लडप्रेशर के कोई ज्ञात कारण नहीं होते , हालांकि कुछ ऐसे स्वास्थ्य संबंधी कारण हैं जिनसे उच्च रक्तचाप होता है, आपके डॉक्टर उन कारणों के बारे में आपको बता पाएंगे जो आपके उच्च रक्तचाप के कारण है।

1. उम्र- जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे उम्र के साथ साथ हाई ब्लडप्रेशर होने की संभावना बढ़ती जाती है।

2. परिवारिक इतिहास- अगर आपके माता-पिता या किसी अन्य संघ संबंधी को हाई ब्लडप्रेशर समस्या है तो आपको भी हाई ब्लडप्रेशर समस्या होने की संभावना ज्यादा होती है।

3. मोटापा और ज्यादा वजन- समान्य वजन वाले व्यक्ति की तुलना में मोटे और ज्यादा वजन वाले व्यक्ति को हाई ब्लडप्रेशर की समस्या ज्यादा होती है।

4. शारीरिक निष्क्रियता- व्यायाम ना करना या निष्क्रिय जीवन शैली उच्च रक्तचाप के खतरे को बढ़ाते हैं इसीलिए प्रतिदिन हल्के व्यायाम जरूर करे।

5 धूम्रपान- धूम्रपान के कारण रक्त वाहिकाएं (Blood vessels) संकीर्ण और छोटे हो जाती हैं और धूम्रपान करने से खून में ऑक्सीजन की मात्रा भी कम हो जाती है जिस कारण इस क्षतिपूर्ति को पूरा करने के क्रम में हमारे हृदय को ज्यादा तेजी से खून को पंप करना पड़ता है जिससे खून की धमनियों मे हाई प्रेशर उत्पन्न हो जाता है जिससे हाई ब्लडप्रेशर होता है।

6. शराब- शोधकर्ताओं के मुताबिक जो व्यक्ति नियमित रूप से शराब का सेवन करते हैं उनमें हाई ब्लडप्रेशर होने की संभावना उन व्यक्तियों से ज्यादा होती है जो शराब नहीं पीते।

7. अधिक नमक का उपयोग करना- खाने में अधिक नमक या ज्यादा नमकीन युक्त खाना खाने से हाई ब्लडप्रेशर होने का खतरा ज्यादा होता है।

8. ज्यादा वसायुक्त भोजन- अनेक स्वास्थ्य पेशेवरों के अनुसार ज्यादा वसा वाले भोजन हाई ब्लडप्रेशर के खतरे को बढ़ाते हैं ।

9. तनाव- कई अध्ययनों के अनुसार ये पता चला है कि तनाव न केवल हमारे संपूर्ण शरीर के लिए घातक है बल्कि यह खून के प्रेशर के लिए भी उच्च नहीं है तनाव के कारण उच्च रक्तचाप की समस्या होने की संभावना बनी रहती है।

10. मधुमेह- जिन व्यक्तियों को मधुमेह की समस्या है उनमें हाई ब्लडप्रेशर होने की भी संभावना अधिक होती है अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित रखकर आप हाई ब्लडप्रेशर को कम कर सकते हैं।

11. नींद- अधूरी नींद भी हाई ब्लडप्रेशर होने के कारणों में से एक है। रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद लें। रात को देर से सोना, कम समय के लिए सोना बंद करें।

12. गर्भावस्था- गर्भवती महिलाओं में हाई ब्लडप्रेशर होने की समस्याओं उन महिलाओं की तुलना में अत्यधिक होती है जो गर्भवती नहीं है।

13. दवाइयां- कुछ दवाइयों के सेवन के कारण भी हाई ब्लडप्रेशर होने का जोखिम होता है।

अन्य कारण जिनसे हाई ब्लडप्रेशर होता है-

हॉर्मोन्स की समस्या (Hormones Problem)

थायराइड की समस्या (Thyroid Problem)

अधिक कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol)

हाई ब्लडप्रेशर के लक्षण

हाई ब्लडप्रेशर सामान्यता एक ‘शांत’ बीमारी है अधिकांश व्यक्ति जिन्हें उच्च रक्तचाप की समस्या है कोई भी लक्षणों का अनुभव नहीं करते, हालांकि कई हाई ब्लडप्रेशर संबंधित लक्षण है जो नीचे दिए गए हैं-

सर दर्द होना

जी मचलना

उल्टी आना

चक्कर आना

धुंधला दिखाई देना

नाक से खून बहना

अनियमित हृदय धड़कने

बेहोशी छाना

सांस फूलना या सांस लेने में दिक्कत आना ।

हालांकि ये ऊपर बताए गए लक्षण हाई ब्लडप्रेशर से ग्रस्त सभी व्यक्तियों में नहीं होते, अगर जिन्हें ये लक्षण हो उन्हें बिना देर किए डॉक्टर के पास जाना चाहिए। जिन व्यक्तियों को हाई ब्लडप्रेशर है उन्हें नियमित रूप से इसकी जांच करानी चाहिए।

हाई ब्लडप्रेशर से होने वाली परेशानियां-

अगर हाई ब्लडप्रेशर का इलाज सही समय पर ना हो तो, इससे कई परेशानियां उत्पन्न हो सकती है और कई शरीर के कई अंगों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

नीचे कुछ ऐसे हाई ब्लडप्रेशर के कारण होने वाले परेशानियों के बारे में जाने-

Heart Stroke

Heart Attack

खून का जमना या खून के थक्के बनना

किडनी समस्या

मेटबॉलिक सिंड्रोम (Metabolic Syndrome)

दिमाग का उचित ढंग से काम ना करना

हाई ब्लडप्रेशर का इलाज और बचाव

हाई ब्लडप्रेशर की समस्या का इलाज कई कारणों पर निर्भर करता है जैसे कि यह कितनी गंभीर है या कौन कौन से खतरे और स्वास्थ्य कारण इससे जुड़े हैं। जीवनशैली में बदलाव उच्च रक्तचाप की समस्या को कम कर सकते हैं।

नीचे कुछ उपाय और जीवनशैली बदलाव के बारे मे बताया गया है जिनसे हाई ब्लडप्रेशर की समस्या को कम कर सकते हैं-

नियमित व्यायाम- नियमित व्यायाम हाई ब्लडप्रेशर को नियंत्रण करने में सहायक है।

वजन कम करें- कई अध्ययन से साबित हुआ है कि केवल मध्यम वजन कम करके भी हाई ब्लडप्रेशर को कम किया जा सकता है।

तनाव कम करें- तनाव का हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है और तनाव से हाई ब्लडप्रेशर की समस्या भी उत्पन्न होती है इसलिए ज्यादा तनाव लेने से बचें। तनाव कम कर के आप हाई ब्लडप्रेशर को कम कर सकते हैं।

संपूर्ण नींद लें- संपूर्ण नींद नहीं लेना ना सिर्फ आपकी सेहत के लिए खराब है बल्कि आपमें उच्च रक्तचाप के खतरे को भी बढ़ा देता है। इसलिए हर रोज 7 से 8 घंटे की अच्छी नींद जरूर लें, ताकि आपमें नींद की वजह से हाई ब्लडप्रेशर की समस्या उत्पन्न न हो।

दवाइयां- बाजार में ऐसी बहुत सारी दवाइयां हैं जो हाई ब्लडप्रेशर को कम या कंट्रोल करने में सहायक है, लेकिन ध्यान दें कि इस तरह की कोई भी दवाई को इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

स्मोकिंग और शराब का सेवन ना करें- धूम्रपान और शराब का हमारे शरीर पर बहुत बुरा असर पड़ता है इनसे हाई ब्लडप्रेशर की समस्या उत्पन्न होती है, इसलिए उचित यह है कि आप स्मोकिंग और शराब का सेवन ना करें।

नमक का सेवन कम करें- हाई ब्लडप्रेशर की समस्या से ग्रस्त व्यक्तियों को नमक कम मात्रा में ही खानी चाहिए और नमकीन खादय पदार्थों का सेवन भी कम करें।

योग- उच्च रक्तचाप की समस्या से प्रभावित व्यक्तियों को योग और अन्य व्यायाम जैसे गहरी सांस भरना, Meditation आदि करना चाहिए। इससे उन्हें हाई ब्लडप्रेशर को कम करने में मदद मिलेगी।

आप ने जाना High Blood Pressure in Hindi क्या है और इसमें किन किन बातों का धयान रखना चहिए। आप अपने डॉक्टर से परामर्श करके अपने हाई ब्लडप्रेशर के कारणों को जानें। डॉक्टर उन इलाजों के बारे में आपको सलाह देंगे जो आपके हाई ब्लडप्रेशर की समस्या के लिए उपयोगी हों।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/low-blood-pressure-in-hindi

https://www.sehatness.com/how-to-conceive-a-baby-boy-in-hindi

https://www.sehatness.com/pcos-in-hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *