Menu Close

Bawaseer Piles Ka Ilaj (बवासीर का इलाज)

बवासीर ( Piles ) को Hemorrhoids भी कहते हैं। Piles मलाशय (Rectum) की कोशिकाओं में सूजन के कारण होता है। बवासीर बहुत ही कष्टदायक बीमारी है। इसके के कई कारण हो सकते हैं। बवासीर मलाशय के अंदर या बाहर कहीं भी हो सकता है। कभी-कभी बवासीर के लक्षणों का पता नहीं चलता, लेकिन कभी-कभी मलद्वार के आस-पास खुजली दर्द, या मलाशय से खून निकलना जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है। बवासीर के इलाज के बहुत सारे प्रभावी तरीके उपलब्ध हैं, हालांकि कुछ घरेलू उपायों और जीवनशैली में बदलाव करके बवासीर के लक्षणों से राहत पाई जा सकती है। इस लेख में जानें बवासीर के लक्षण ,कारण और इलाज (Bawaseer / Piles Ka Ilaj).

बवासीर के लक्षण:

* मल के दौरान खून निकलना

* गुदा क्षेत्र में ज्यादा खुजली होना

* मलाशय में दर्द होना

* गुदा क्षेत्र के आसपास सूजन होना

* गुदा क्षेत्र का सुन होना

बवासीर के लक्षण उसके होने वाली जगह पर निर्भर करतें है। बवासीर के प्रकार-

अंदरूनी बवासीर- यह मलाशय के अंदर होता है जो दिखाई नहीं देता, इसमें मल निकलने के दौरान दर्द महसूस होता है।

बाहरी बवासीर- यह गुदा के आसपास बाहरी क्षेत्र में होता है जिसमें अत्यधिक खुजली खून निकलना जैसे लक्षण अनुभव होते हैं।

डॉक्टर से कब मिलें-

मल के दौरान खून आना बवासीर का एक सबसे मुख्य लक्षण है। आपके डॉक्टर आपकी शारीरिक जांच और अन्य जाचों के आधार पर यह सुनिश्चित करतें हैं कि आपको बवासीर है या नहीं।

बवासीर के कारण:

बवासीर मलाशय की कोशिकाओं में सूजन के कारण होता है। नीचे बवासीर के अन्य कारणों के बारे में जानें जिससे बवासीर होता है।

मल निकालने में ज्यादा जोर लगाना

टॉयलेट में ज्यादा देर तक बैठना

कब्ज

मोटापा

गर्भावस्था

गुदा संभोग करना

कम फाइबर युक्त आहार खाना

उम्र

बवासीर का बुढ़ापे में होने का खतरा ज्यादा रहता है क्योंकि मलाशय की टिशूज इस उम्र में कमजोर हो जाते हैं।

बवासीर की जांच:

डॉक्टर आपकी शारीरिक जांच और अन्य जाचों के माध्यम से बवासीर होने का पता लगाते हैं।

बवासीर का इलाज:

बवासीर में होने वाले दर्द, सूजन को कुछ घरेलू उपायों के माध्यम से कम या ठीक किया जा सकता है।

बवासीर के कुछ घरेलू और जीवनशैली संबंधी इलाज और उपाय निम्नलिखित है:

1. अधिक फाइबर युक्त भोजन खाएं- ज्यादा फल हरी सब्जियां अनाज खाएं क्योंकि इसमें फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है। फाइबर         कब्ज को ठीक करने और मल को आसानी से बाहर निकालने में मददगार है।

2. अधिक पानी पिएं- रोजाना छह से आठ गिलास पानी जरूर पीएं इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होगी और मल भी सख्त नहीं होगा।

3. जोर ना लगाएं- मल को बाहर निकालने के लिए ज्यादा जोर ना लगाएं क्योंकि इससे मलाशय में मौजूद नसों में जोर पड़ता है।

4. तुरंत टॉयलेट जाए- जब भी आपको शौच का प्रेशर हो तो बिना देर किए शौचालय जाएं क्योंकि देर करने से मल सख्त हो जाता है और           फिर से बाहर निकलने में काफी दिक्कत होती है।

5. व्यायाम- व्यायाम करने से शरीर चुस्त रहता है और कब्ज की समस्या भी कम होती है इसीलिए नियमित रूप से हल्के व्यायाम जरूर करें।

6. ज्यादा ना बैठे- शौचालय में ज्यादा देर तक ना बैठे क्योंकि इससे मलाशय के नसों में दबाव पड़ता है।

7. गरम पानी- 10 से 15 मिनट तक गर्म पानी में अपने गुदा क्षेत्र को भिगोकर रखें, इससे दर्द में काफी आराम मिलेगा। इसे दिन में दो से तीन       बार करें।

8. आइस पैक (Ice Pack)- बर्फ की थैली (आइस पैक) को अपने गुदा क्षेत्र पर लगाएं इससे सूजन में कमी आएगी।

9. दवाई- बाजार में उपलब्ध दर्द की दवाई ले सकते हैं इससे आपको बवासीर से होने वाले दर्द में राहत मिलेगी।

10. एलोवेरा- एलोवेरा में एंटी इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं जो बवासीर में आराम पहुंचाते हैं। आप एलोवेरा जूस पी सकते          है।

11. टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil)- इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) और ऐन्टसिप्टिक (anti-septic) गुण होते हैं जो सूजन         को कम करते हैं। आप टी ट्री ऑयल को गुदा क्षेत्र में लगाएं।

12. नारियल तेल- नारियल तेल लगाने से बवासीर में होने वाले दर्द और सूजन में काफी कमी आती है।

13. लहसुन- लहसुन में प्रतिजैविक या एंटीबायोटिक (anti-biotic) और एंटी इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं जो सूजन और         दर्द में राहत देने में मदद करते हैं। इसके लिए खाली पेट लहसुन की कलियां खाएं।

14. ग्रीन टी (Green Tea)- ग्रीन टी पाचन तंत्र को सही रखने में मददगार है, इसमें एंटीओक्सीडेंट (anti-oxidants) गुण होते हैं जो                 बवासीर को ठीक करने में मदद करते हैं।

15. जात्यादि तेल (Jatyadi oil)- इस तेल में चिकित्सकीय गुण होते हैं जो बवासीर को ठीक करने में मदद करते हैं यही कारण है कि कई         डॉक्टर इस दिल को बाबासीर के लिए लिखते हैं।

16. ऑलिव ऑयल (Olive Oil)- ऑलिव ऑयल में एंटी इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं जो सूजन और दर्द में राहत देते            हैं।

17. गाजर- गाजर बवासीर को ठीक करने के प्राकृतिक उपायों में से एक है। यह कब्ज में राहत देते हैं और पाचन प्रणाली को ठीक रखने में           मदद करते हैं। यह बवासीर में होने वाले दर्द को भी कम करते हैं।

ऊपर दिए गए उपायों से अक्सर बवासीर के लक्षण एक सप्ताह में ठीक हो जाते हैं लेकिन अगर इन सब उपायों के बावजूद बवासीर ठीक ना हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बवासीर के लिए दवाइयां

अगर आपके बवासीर के लक्षण हल्के हैं तो डॉक्टर दवाइयां क्रीम, Ointment के माध्यम से बवासीर में होने दर्द सूजन को ठीक करने का प्रयास करते हैं।

बवासीर के लिए सर्जरी

अगर दवाइयों के माध्यम से बवासीर ठीक ना हो रहा तो डॉक्टर सर्जरी करने की सलाह देते हैं। इस सर्जरी को Hemorrhoidectomy कहते हैं, इसमें डॉक्टर टिशूज को ऑपरेशन के माध्यम से हटा देते हैं, जो बवासीर का कारण है। यह सर्जरी बवासीर के इलाज में बहुत प्रभावी है।

और पढ़ें:

https://www.sehatness.com/sugar-diabetes-ke-lakshan

https://www.sehatness.com/how-to-stop-snoring-in-hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *